तीन बच्चों के बाप इमरान ने कबीर शर्मा बनकर हिन्दू लड़की से रचाई शादी, पूरा परिवार निकला फर्जी

राजस्थान के सीकर जिले से लव जिहाद का अनोखा मामला सामने आया है। यहां मुस्लिम समुदाय के तीन बच्चों के बाप ने एक हिन्दू युवती को प्रेम जाल में फांस कर अपना नाम, जाति और धर्म बदलने के साथ माता-पिता, मामा समेत पूरे परिवार का फर्जी कुनबा तैयार कर सात फेरे ले लिए। इतना हीं नहीं तीन माह तक यह भेद भी नहीं खुलने दिया। बाद में युवती के गायब होने पर परिवार के लोगों ने जानकारी की तो उनके पैरों तले से जमीन खिसक गई। युवती के पिता की आपबीती सुनकर पुलिस अधिकारियों के भी होश उड़ गए। पुलिस अधीक्षक डॉ. अमन दीप सिंह कपूर ने तत्काल मामला दर्ज कर आरोपी युवक की तलाश के लिए विशेष टीम को लगाया है, लेकिन अभी तक उनका कोई पता नहीं चल पाया है। आरोपी युवक का नाम इमरान भाटी ( Imran Bhati ) है। उसने कबीर शर्मा ( Kabir Sharma ) बनकर शादी की है।

पुलिस नहीं पहुंच पा रही इमरान तक
Sikar Police के लिए यह मामला बड़ी पहेली बन गया है। मामला संज्ञान में आने के तीन दिन बाद भी पुलिस अभी तक कबीर बने इमरान व उसके फर्जी मां-बाप और रिश्तेदारों तक नहीं पहुंच पाई है। इसकी वजह है कि आरोपियों ने फर्जीवाड़े के दौरान पुलिस से बचने के लिए पूरी सतर्कता बरती। यहां तक की शादी के लिए वीडियो और फोटोग्राफर खुद ने ही तय किए। हालांकि मोबाइल से खींचे गए कुछ फोटो युवती के परिवार के पास है। उनमें साफ दिख रहा है कि शादी की रस्में हिन्दू रीति रिवाज से निभाई गई है। कार्ड में कबीर शर्मा बने इमरान ने अपने पिता का नाम रामेश्वर और दादा का नाम भागीरथ शर्मा लिखा है। कार्ड में पीतल फैक्ट्री शास्त्री नगर निवारू रोड जयपुर का पता व दो मोबाइल नंबर भी लिखे हुए हैं, लेकिन मामला सामने आने के बाद से यह सभी नंबर बंद आ रहे हैं। शादी में खाने पर एक लाख 70 हजार रुपए खर्च हुए, लेकिन अभी तक यह भी सामने नहीं आया है कि कबीर बने इमरान की शादी में उसकी तरफ से कौन लोग तिलक लगाकर शामिल हुए है। पुलिस सभी बिंदुओं पर मामले की जांच कर रही है।

फर्जी गोत्र, शादी में हर कोई ब्राह्मण बनकर आया
शादी से पहले दोनों परिवारों ने जयपुर में एक फ्लेट में सगाई की रस्म अदा की। इस दौरान युवक और उसके फर्जी माता-पिता व रिश्तेदार बने लोगों ने युवती के पिता को अपने ब्राह्मण होने के गौत्र भी बताए। इस पर युवती का पिता शादी के लिए राजी हो गया। इस पर दोनों की शादी 13 मई को तय की गई। युवक ने युवती के पिता को जयपुर बुलाकर जयपुर में लोहामंडी स्थित मातेश्वरी रिसोर्ट बुक करवा दिया। युवती के परिवार के लोग शादी करने के लिए जयपुर पहुंच गए। शादी में आने वाले सभी लोग ब्राह्मण समाज के बनकर आए थे। सबने तिलक लगा रखे थे और हिन्दू रीति रिवाज में पूरी तरह से सहभागिता निभाई। युवक ने भी सभी रस्मों का निर्वहन किया। बाद में युवती को उसके ससुराल जयपुर साउथ निवारू रोड स्थित फ्लेट पर भेज दिया गया।

दहेज में दिए 11 लाख और जेवरात
इकलौती बेटी होने के कारण युवती के पिता ने दिल खोलकर दहेज दिया। बकौल पिता शादी में 11 लाख रुपए नगद, पांच लाख के जेवरात, कपड़े, डेढ़ लाख रुपए रिसोर्ट का किराया, एक लाख 70 हजार रुपए खाना खर्चा व कैटरिंग का भुगतान करने के बाद युवती का पिता वापस सीकर आ गया।

शादी के छह दिन बाद पीहर भेजा, पांच लाख रुपए मांगे
शादी के छह दिन बाद 18 फरवरी को युवती को वापस सीकर भेज दिया गया। इस दौरान घर आए युवक ने युवती के पिता से पांच लाख रुपए की आवश्यकता जताई। इसके बाद युवक वापस जयपुर जाने की कहकर चला गया। युवती के पिता के पास पैसों की व्यवस्था नहीं हो पाई। युवक के लगातार दबाव के चलते बाद में युवती के पिता ने अपने परिचित से ढाई लाख रुपए उधार लिए। रुपए घर आने के बाद 17 मई को युवती रात को घर से गायब हो गई। घर में रखे ढाई लाख रुपए, उसकी मां के लाखों के जेवरात भी गायब थे।

फोटो दिखाई तो लोग बोले यह तो इमरान भाटी है
युवती के घर से गायब होने के बाद उसके पिता ने युवक से संपर्क करने का प्रयास किया। शादी में मोबाइल पर खींची गई फोटो परिचितों को दिखाई तो पता चला कि इस युवक का नाम कबीर शर्मा न होकर इमरान भाटी है। शहर के वार्ड 28 अंजूमन स्कूल के पास का निवासी इमरान पहले यहां पर एक मोटर कंपनी में काम करता था। उसका पिता इकबाल भाटी का बस डिपो के पास गाडिय़ों का सर्विस स्टेशन है। इमरान पहले से शादीशुदा है। उसकी पत्नी और तीन बच्चे घर पर ही रहते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *